हेमाराम चौधरी जैसे ईमानदार और निष्ठावान नेता का इस्तीफा देना चिंता का विषय, पायलट

0
53

प्रदेश कांग्रेस कमेटी पूर्व प्रदेश अध्यक्ष एवं पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट ने हेमाराम चौधरी के अपनी सदस्यता से इस्तीफे प्रकरण में कहां की हेमाराम चौधरी कांग्रेस के निष्ठावान और ईमानदार नेता है संगठन में अब ऐसे नेता कुछ ही बचे हैं सरकार को इनकी बात को गंभीरता से सुनना चाहिए उनका में विधानसभा की सदस्यता से इस्तीफा देना संगठन और सरकार के लिए चिंता का विषय है शुक्रवार को पीसीसी मुख्यालय में आयोजित राजीव गांधी पुण्यतिथि समारोह के अवसर पर पायलट ने हेमाराम चौधरी को लेकर चिंता व्यक्त की ,

लंबे समय से राजस्थान कांग्रेस में मुख्यमंत्री की कुर्सी को लेकर चल रही रस्साकशी का खेल 14 माह के कोरोनावायरस कॉल मैं दूसरी बार दिखाई दे रहा है पिछले साल भी वर्षा ऋतु से पहले राजस्थान कांग्रेस के दोनों गुट अपनी अपनी सियासी जमीन की जुताई में जुटे नजर आए थे जिसमें सत्तासीन नेता राजस्थान की होटलो में जमीन की जुत्सी करते नजर आ रहे थे तो सत्ता सुख से दूर दूसरा गुट सट्टा की फसल को मजबूत करने के लिए हरियाणा में खाद उर्वरक तलाशते नजर आए दोनों गुटों की खरीब की फसल तैयार हुई तो पूरी फसल आलाकमान ने गहलोत गुट को सौप दी और पायलट गुट को रबी की फसल का इंतजार करने को बोला गया था लेकिन अब रवि की फसल भी कट गई और खरीब की बुवाई दोबारा से शुरू होने वाली है, लेकिन अब तक पायलट गुटको रबी की फसल का भी कोई फायदा नहीं मिला जिसस अब अंदर ही अंदर एक बार फिर सरकार की वादा खिलाफी को लेकर नाराजगी जताई जाने लगी हैं।

कोरोना काल में सत्ता पक्ष के अंदर से ही सरकार पर सवाल उठना सत्ताधिशो को रास नही आ रहा है, पीसीसी चीफ गोविंद सिंह डोटासरा ने हेमाराम चौधरी के इस्तीफे को लेकर कहा कि हेमाराम जी कांग्रेस के वरिष्ठ नेता है लेकिन उनको अपनी बात सार्वजनिक मंच के स्थान पर पार्टी फोरम में रखनी चाहिए थी उन्होंने कांग्रेस पार्टी को सींचा है तो पार्टी ने भी उन्हें बहुत कुछ दिया है।

हेमाराम चौधरी इस्तीफा प्रकरण पर सचिन पायलट ने हालांकि सीधे तौर पर कुछ नहीं कहा लेकिन बातों ही बातों में सरकार को कटघरे में खड़ा कर दिया पायलट ने कहा कि हेमाराम जी 30 साल से कांग्रेस को स्विच रहे हैं जिन पर आज तक कोई दाग नहीं है ऐसे आदमी की अनदेखी गंभीर है सरकार कार्यकर्ताओं के प्रयासों से ही बनी है और अगर कार्यकर्ताओं की नहीं सुनी जाए तो वह और भी ज्यादा गंभीर मामला है इससे पहले हेमाराम चौधरी के बाद वेद प्रकाश सोलंकी ने भी सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है वेदप्रकाश सोलंकी के बयान पर बोले डोटासरा पार्टी सभी कार्यकर्ताओ का सम्मान रखती है कार्यकर्ताओ और जनप्रतिनिधियो को भी पार्टी की मान मर्यादाओ का ध्यान रखना चाहिए। वही अभी 2 दिन पहले ही पूर्व पर्यटन मंत्री विश्वेंद्र सिंह ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से मुलाकात की थी इसे भी हेमाराम चौधरी इस्तीफे प्रकरण से जोड़कर देखा जा रहा है और माना जा रहा है कि यह सब एक ही गुटके विधायक है जिन्होंने पिछले साल मे

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here