विश्वेन्द्र सिंह और रमेश मीणा को मिलेगा मंत्रालय !

0
154

प्रदेश सियासी गलियारे में चर्चा है की आगामी मंत्री मंडल विस्तार जनवरी माह के आखरी सप्ताह में हो सकता है ,इस मंत्री मंडल विस्तार में पिछले 6 माह से राजनेतिक वनवास काट रहे पूर्व मंत्रियो को भी एक बार फिर से टीम गहलोत में शामिल किया जा सकता है …

अगस्त 2020 में कांग्रेस में आई पायलट क्रांति के दौरान पायलट के साथ कंधे से कन्धा मिलकर दिल्ली की होटलों में पायलट के साथ अज्ञातवास काट रहे तत्कालीन मंत्री विश्वेन्द्र सिंह और रमेश मीणा एक बार फिर से गहलोत सरकार में मंत्री बन्ने वाले है, हालाकि राजनितिक उठापटक और आरोप प्रत्यारोप के बाद गहलोत सरकार से बगावत करने का आरोप लगा कर इन दोनों मंत्रियो सहित खुद उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट से भी गहलोत ने मंत्री पद और पीसीसी चीफ का छीन लिया था,

कांग्रेस के भरतपुर प्रभारी डॉ जीतेन्द्र सिंह,और पायलट खेमे के विधायक वेद प्रकाश सोलंकी आज भरतपुर प्रवास पर थे इस दौरान सोलंकी ने कहा की विश्वेन्द्र सिंह व रमेश मीणा के पूर्व से आवंटित बंगलो का हो चुका है एक्सटेंशन यह तय है दोनों दुबारा मंत्री बनने जा रहे है,हालाकि सोलंकी ने कहा की आखरी फैसला मुख्यमंत्री गहलोत को लेना है,

पूर्व मंत्री और भरतपुर कांग्रेस प्रभारी डॉ जीतेन्द्र सिंह का बयान भी राजनेतिक गलीयारे में खूब सुर्खिया बटोर रहा है,डॉ सिंह ने कहा की  विश्वेन्द्र सिंह को ओवरलुक नही किया जा सकता जिन अफसरों को उन्होंने मंत्री पद पर रहते हटाया उनको दुबारा भरतपुर में लगाया जाना गलत है इस मामले की रिपोर्ट सरकार को सोपेंगे साथ ही ऐसे ऐसे अफसरों को तुरंत प्रभाव से हटाये जाने की मांग करेंगे।

सियासी संकट में गहलोत सरकार से नाराज बर्खास्त मंत्रियो को के बंगलो को एक्सटेंशन की बात से यात तो साफ़ हो गया है की विश्वेन्द्र सिंह और रमेश मीना को अपना खोया पद वापस मिअलने वाला है लेकिन एक सवाल आज भी प्रदेश की जनता के जहाँ में है की राजस्थान को युवा नेतृत्व कब देंगे कांग्रेस आलाकमान .

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here