कृषि बिल के बाद भी किसान को पूरी आजादी ,

0
90

केन्द्र के तीन कृषि कानूनों को लेकर पूर्व केंद्रीय मंत्री और बीजेपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता राज्यवर्द्धन सिंह राठौड़ ने कहा कि इन कानूनों को लेकर किसी तरह की बाध्यता नहीं है। … राठौड़ ने कहा कि जो व्यक्ति जिस सिस्टम को चाहे उसे अपना सकता है। … उन्होंने कहा कि यदि कोई किसान पुराने कानून के तहत काम करना चाहता है तो वह उसे अपनाए और अगर कोई नये कानून के तहत अपनी फसल कहीं भी बेचना चाहता है तो उसे अपनाकर काम कर सकता है।…. राठौड़ ने कहा कि किसान चाहें तो मण्डी में भी अपना माल बेच सकते हैं और बाहर भी। … पूर्व केन्द्रीय मन्त्री ने कहा कि केन्द्र के कानून किसानों के विकास में बाधक नहीं बल्कि मददगार साबित होंगे।

बीजेपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता राज्यवर्द्धन सिंह राठौड़ ने कहा कि मोदी सरकार की नीयत साफ बताते हुए कहा कि सरकार लगातार किसानों को समृद्ध और उन्हें मजबूत करने के लिए काम कर रही है। …. राज्यवर्द्धन ने कहा कि 70 फ़ीसदी भारत गांवों में बसता है, ऐसे में मजबूत भारत बनाने के लिए किसानों को मजबूत करना जरूरी है और मोदी सरकार लगातार इस पर काम कर रही है। राज्यवर्द्धन ने कहा कि सॉयल हैल्थ कार्ड की बात हो या यूरिया के नीम कोटिंग और ‘पर ड्रॉप-मोर क्रॉप की’ … सरकार हमेशा नवाचार के जरिये किसानों को मजबूत करती आई है।

राठौड़ ने कहा कि स्वामीनाथन आयोग की सब बात करते हैं लेकिन यह कमीशन 2007 में हुआ था उसके बावजूद तब की सरकारों ने स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशों को लागू नहीं किया। … राठौड़ ने कहा कि उस वक्त की सरकारों की इस मामले में कमजोरी रही होगी, लेकिन मोदी सरकार में वह ताकत है कि सरकार उस समय के चिंतन और सिफारिशों पर काम कर पा रही है।…. राठौर ने कहा कि प्रधानमंत्री का साफ कहना है कि इन कानूनों में अगर कोई खामी इंगित करते हुए यह बता सकता है कि इन कानूनों में क्या कमी है…. तो उसमें सुधार करने को सरकार तैयार है। लेकिन अगर सिर्फ और सिर्फ कानून वापस लेने की बात पर ही पड़े रहा जाए तो वह न्याय संगत नहीं है। राठौड़ ने कहा कि किसान को अपनी फसल का मार्केट तय करने भाव तय करने और उसे बेचने या नहीं बेचने का फैसला करने का अधिकार है।

राठौड़ ने कहा कि नये कानून से जीडीपी में खेती का हिस्सा बढ़ेगा… और खेती से जुड़े प्रोडक्ट्स का प्रोडक्शन भी बढ़ेगा। … उन्होंने कहा कि अभी तक सिर्फ लाइसेंसधारी मण्डी का दुकानदार ही फसल खरीद सकता था… लेकिन अब किसान का बच्चा भी अगर यह काम करना चाहे तो लाइसेन्स लेकर वह भी खरीद कर सकेगा। … बीजेपी प्रवक्ता ने कहा कि इन कानूनों से मण्डी के आढ़तिये और लाइसेन्सधारी खरीददार पर कोई असर नहीं पड़ने वाला।

राज्यवर्द्धन राठौड़ ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि जो राजनीतिक दल देश में सबसे पहले इमरजेंसी लेकर आया…. वह अब धरना देकर मोदी सरकार पर लोकतंत्र को कमज़ोर करने का आरोप लगा रहा है।… राठौड़ ने कहा कि कांग्रेस नेताओं के मुंह से ऐसे आरोप सुनकर हैरानी होती है।

उन्होंने कहा कि राजस्थान में कांग्रेस की सरकार ने किसानों से वादे करके सत्ता तो हासिल कर ली… लेकिन अभी तक राजस्थान में किसानों की कर्ज माफी नहीं की, बेरोजगारों को भत्ता देने का वादा अभी तक पूरा नहीं किया और पहली बार किसानों के हित में बने कानूनों के खिलाफ राजस्थान सरकार के लोग ही धरने पर बैठकर लोकतन्त्र के खिलाफ़ दिख रहे हैं। राठौड़ ने कहा कि उन्होंने देश के कई हिस्से के किसानों से बात की है… और वे यह बात समझ रहे हैं कि देश के ज्यादातर किसान आज मोदी सरकार की नीतियों के समर्थन में है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here